Wednesday, June 12, 2013

दास्तान-ए-इस्तीफ़ा


पिछले कुछ दिनों से मार्केट में “इस्तीफों" की बड़ी चर्चा है |

एक “सज्जन" थे, उनसे कहा गया की आपके राज-काज में बड़े लफड़े लोचे हुए हैं | तौलिया रख-रख के लोगों ने बड़े-बड़े काण्ड कर दिए, आप इस्तीफ़ा दो | वो नहीं माने | इस चक्कर में कई और लोगों ने इस्तीफ़ा दे डाला | फिर मीटिंग बुलाई गयी |  मीटिंग में वो टाइम पर पहुंचे, और टाइमिंग की महिमा देखो, सांप भी मर गया और लाठी भी नहीं टूटी |
index
इस बीच एक दूसरे सज्जन इस्तीफ़ा दे बैठे | उनसे सबने कहा की वापस लो भाई ये इस्तीफ़ा, ऐसे नहीं चलेगा  | कई दिनों तक नहीं माने,  बाद में मान गए | बाद में पता चला की पिछले ८ सालों में उन्होंने ये इस्तीफे वाला काण्ड ३ बार किया है |

हमारे प्रधानमंत्री जबसे प्रधानमंत्री बने हैं तबसे इतने “गेट" निकले ( जैसे “कोलगेट" ) की लोगों ने उनसे भी हर दूसरे महीने इस्तीफ़ा मांगना जारी रखा है | हालत तो ये है की अगर उनके अपने घर की बत्ती भी चली जाए तो उन्हें डर लगने लगता है की कहीं उन्ही से इस्तीफ़ा ना मांग लिया जाए |

पर इनलोगों को आइडिया नहीं है की बेचारे “इस्तीफों" की क्या हालत होती होगी ? हम बताते हैं | इस्तीफों में भी जान होती है, हमारी तरफ सोचते-समझते-जानते-बूझते हैं | उनमे फीलिंग्स होती हैं | पर जनता का क्या है , वो समझ नहीं पाती |

इस्तीफों का जनम ज्यादातर ऑफर लेटर्स से होता है | आमतौर पर जब तक कोई दूसरा ऑफर ना हो, लोग इस्तीफ़ा नहीं देते |  कभी कभी इस्तीफ़ा देते ही नए ऑफर मिल जाते हैं | पर लोग ऑफर को एक्सेप्ट कर लेते हैं , इस्तीफों को भूल जाते हैं |इस्तीफे कई तरह के होते हैं :

आम इस्तीफे :
इस्तीफों की जनसँख्या में सबसे बड़ी संख्या उन इस्तीफों की है जो आम होते हैं और अक्सर चुपचाप दे दिए और स्वीकार किये जाते हैं | इनके लिए कोई हो हल्ला नहीं होता | ये आम लोगों की होते हैं | चुपचाप लिखे जाते हैं और चुपचाप दे दिए जाते हैं | इतिहास में इनका कोई नाम नहीं होता |

भावखाऊ इस्तीफे :
दूसरे टाइप के इस्तीफे थोड़े भावखाऊ होते हैं | इस तरह के इस्तीफे इसलिए लिखे जाते हैं की ये खुद के एक्सेप्ट होने से पहले भाव खाएं | आई-टी इंडस्ट्री में ऐसे भावखाऊ इस्तीफों की भरमार है | इधर इस टाइप का इस्तीफ़ा दिया गया, उधर बता दिया जाता है की कब ये एक्सेप्ट हो जायेगा, इस बीच में जितना भाव खाना है खा लो |  ऐसे इस्तीफे कभी कभी लालची भी होते हैं | कुछ ठीक ठाक सा दिखा झट वापस हो गए | पर वापस होने का प्रतिशत कम रहता है |

ढुलमुल इस्तीफे :
इस तरह के इस्तीफों का उपयोग पिछले दिनों एक पितामह ने किया है | इसमें होता क्या है की इस्तीफ़ा लिखे जाने से पहले जानता है की उसे वापस लिया ही लिया जाना है | इनका उपयोग ज्यादातर लोगो की भद्द पिटाने के लिए, उन्हें औकात पर लाने के लिए किया जाता है | हल्ला इनपर खूब मचता है | मीडिया के लिए तो दुधारू गाय होते हैं ये इस्तीफे |

ढीठ इस्तीफे :
तीसरे टाइप के इस्तीफे होते हैं ढीठ इस्तीफे, इनको पता होता है की इनको वापस लेने के लिए बहुत प्रेशर डाला जायेगा | पर ये गदहे की चमड़ी के बने होते हैं , टस से मस नहीं होते | इतिहास गवाह रहा है इस तरह के इस्तीफों ने कई राजा-महाराजा तक के लोगों को नेस्तनाबूत कर दिया है | इसको देने वाला भी कोई बहुत कड़े दिल का होता है | इतिहास इन्हें कई पीढ़ियों तक याद रखता है |

लाचार इस्तीफे :
मुझे सबसे ज्यादा दया इस टाइप के इस्तीफों पर आती है | ये कभी दिए जाने वाले के द्वारा नहीं लिखे जाते | जिसको इन्हें देना होता है उसके अलावा हर कोई इन्हें लिए घूमता है | हर दूसरा आदमी इस तरह के इस्तीफों की मांग करता है, पर जिसे देना होता है वो चुप्पी मार के बैठा रहता है | हमारे प्रधानमंत्री से मांगे जाने वाले इस्तीफे इसी श्रेणी में आते हैं |

मुंह पे दे मारू इस्तीफे :
मेरे हिसाब से इन इस्तीफों के लिए कोई “इस्तीफाधिकार आयोग” बनना चाहिए | इस टाइप के इस्तीफे “ओन द स्पॉट” लिखकर सामने वाले के मुंह पर दे मारे जाते हैं | सामने वाले से पूछा भी नहीं जाता की एक्सेप्ट करोगे या नहीं |  बस दे मारा जाता है | इन इस्तीफों को भी काफी चोट लगती होगी, इसलिए इनके अधिकारों की बातें जनता के सामने आनी चाहिए |

इन सब बातों को यहाँ लिखने के दो मकसद हैं : एक तो इस्तीफों के बारे में जनता की जागरूकता बढ़ाना और दूसरा आपका खून पीना | पहले की सफलता तो वक़्त बताएगा पर दूसरे की सफलता की पूरी गारंटी है |  इसमें एक्सपर्ट हैं हम |

खैर!!! अभी चलते हैं |  फिर मिलेंगे तब तक आप एंटरटेनमेंट नेटवर्क, जिन्हें “न्यूज़ चैनल" कहा जाता है चलती फिरती भाषा में, उनपर इस्तीफ़ा कांडों के मजे लीजिये |

टाटा !!!
--देवांशु
#बहुत दिन हुए बकवास किये हुए
(फोटो गूगल के साभार चुराया)

11 comments:

  1. अरे कहां चले भाई! अभी तो किस्से शुरु ही किये थे इस्तीफ़े के। चल दिये?

    वाह! हम भी कमेंट कर्म से इस्तीफ़ा देकर निकल लेते हैं।

    ReplyDelete
  2. अथ: श्री इस्तीफा कथा समाप्तम :).

    ReplyDelete
  3. त्यागपत्र संदर्भ नाम की पुस्तक रचनी होगी, आगामी पीढ़ी के लिये।

    ReplyDelete
  4. वे इस्तीफे कितने भाग्यहीन होते होंगे जो झट से एक्सेप्ट हो जाते हैं :-(

    ReplyDelete
  5. भाव दे कोई तो हम भी दे दें :)

    ReplyDelete
  6. हमने भी दे दिया है इस्तीफ़ा!
    ढ़
    --
    थर्टीन ट्रैवल स्टोरीज़!!!

    ReplyDelete
  7. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए आज 15/06/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक है http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी देख लीजिए एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  8. आप तो ब्लॉग दुनिया के हरीशंकर परशाई हुए जाते हैं

    ReplyDelete
  9. बहुत सटीक व्यंग....

    ReplyDelete