Monday, August 19, 2013

१५ अगस्त का तोड़ू-फोड़ू दिन !!!

 
सबेरे उठे तो सालाना आदत के चलते माताश्री १५ अगस्त के शुभ-अवसर पर प्रधानमंत्री का भाषण सुन रही रहीं | सबसे पहले जो डायलोग कानों में गया वो ये रहा (शब्द थोड़े अलग हैं):

“गरीबी को नापना एक मुश्किल काम है , लोगो के अलग अलग ख़याल हैं, पर कोई भी परिभाषा अपनाएं २००४ के बाद से गरीबी बहुत कम हुई है”

हमें लगा इससे ज्यादा ना सुन पाएंगे भाई , अभी एक और  साहब का भी सुनना है स्पीच , वो पहिले ही दावा कर दिए हैं की प्रधानमंत्री से अच्छा भाषण देंगे | सोचे शाम को दोनों का एक-एक करके सुनेंगे | फिर से सो गए |

देशभक्ति तो आज के दिन ऐसे तोड़ू तरीके से जगती है की पूछो मत |  नीचे की फ्लोर पर रहने वाले लड़कों ने तो एक दिन पहले से मनाना शुरू कर दिया | काफी रात तक नाच गाना चलता रहा | आजादी का नशा कोई मामूली नशा नहीं होता है | हम भी बोले की हम आज़ाद हैं और रात १२  बजे से पूरे चार घंटे का गिटार प्रोग्राम चलाएंगे तो जवाब में सिस्टर जी ( अब बहन जी तो नहीं बोल सकते ना ) ने कहा हम भी आज़ाद हैं , गिटार संभाल लेना फिर |  हमने अपने अरमानों का गला घोंट दिया |

आज़ादी का दिन था  तो हम वैसे ही देर से उठे  |  बचपन में १५ अगस्त एक दम पूजा टाइप लुक देता था | कथा टाइप भाषण होते और बाद में परसाद में बूंदी के लड्डू मिलते |  फिर वक़्त बदला , आजादी का मतलब भी बदल गया |

सबसे पहले घूमने निकले की देखा जाए की कहाँ कैसे आज़ादी मनाई जा रही है | सामने के सेक्टर में भाषण-बाजी चल रही थी | थोड़ी देर सुने फिर आगे बढ़ गए | ऐसा लगभग ३-४ पार्कों में हो रहा था | आगे मंदिर पहुँच गए | वहां भी बराबर भीड़ थी | मुझे लगा की भगवान् की पूजा तो आज भी होनी चाहिए | उन्ही के भरोसे तो ये देश चल रहा है |  वरना डुबाने वाले तो कबसे उतारू बैठे हैं | भगवान् जी से मुलाकात करके आगे बढे | हलवाई के यहाँ से घेवर खरीदा, माताश्री को बहुत पसंद है |

घर वापसी पर मकान-मालकिन को किराया बढ़ाये जाने को लेकर वार्षिक बहस हुई, जो हमने १००० के मुकाबले १०० रुपयों से जीती  |

तभी  सोनल का फ़ोन आ गया “आज तो आज़ाद होगे ??”
हमने कहा “नहीं जी , बड़ी गुलामी में जी रहे हैं”
उधर से आवाज़ आयी “तो फिर सही समय पर ठिकाने पर पहुच जाना” |

दरअसल सोनल के घर पर एक गप्प-गोष्ठी का आयोजन किया गया था |  कई अतिथि आ रहे थे, और सारे मुख्य-अतिथि  |  शिखा जी , अनु जी , आराधना जी , अभिषेक बाबू | हम भी इन-वाईटेड थे |

सोनल जिस कम्युनिटी में रहती हैं उसके गेट पर खड़े  गार्ड ने हमें सबसे पहले रोका | बोला टिकस लै लेयो | हमें लगा की उसे आइडिया लग गया है की बड़े बड़े लोग आ रहे हैं, तभी इंट्रीटिकस लगा दिया है ( अब तो भाषण सुनने के भी रुपये लगते हैं )  | हमने कहा एक टिकस दै देयो |  पर वो बोले पहले उनसे बात कराओ जिनके पास जाना है | सोनल से बात कराई गयी | तब जाकर टिकस मिला | फोन पर ही पता चला की अभिषेक बाबू भी आ गए होंगे, देख लो  | देखा तो वो गेट में घुस ही रहे थे, हमने कहा टिकस पर +१ कर दो |

कम्युनिटी बहुत शानदार रही |  हमने अभिषेक से कहा यार बड़े महंगे घर हैं, अपनी औकात से बाहर | उन्होंने भी हामी भर दी | फिर हमने कहा “एक घर तो ना ले पाएंगे , पूरी कम्युनिटी कितने में बिकेगी ये पता लगाओ" | उन्होंने हमें घूर के देखा |

अन्दर दूसरे गार्ड से बिल्डिंग की लोकेशन पूछी , बोले है तो यही पर. टिकस है ? हमने दन्न से टिकस दिखाया | तब अन्दर जाने को मिला | बड़ा ताम-झाम वाला काम रहा यहाँ तक |

DSC01458शिखा जी पहले पहुँच चुकी थीं | हम लोग भी पहुँच गए | पता चला बाकी लोग नहीं आयेंगे इस लिए गप्प-वार्ता-आलाप शुरू किये गए | दुनिया जहान की बातें |  इसे ब्लॉगर-मीट कहना उतना ही सही रहेगा जैसे हिन्दुस्तान को लोकतंत्र कहना (सटायर) |

गप्प की रेंज एटम बम की रेंज से ज्यादा होती है |  शुरुआत हुई खस के शरबत से जिसमे सोडा मिला हुआ था |  पहले सब लोग सभ्यता के साथ हँसते रहते , बाद में सभ्यता की डोरी टूट गयी और चिग्घाड़-चिग्घाड़ के हंसाई प्रोग्राम चालू हो गया |

सोनल ने दोपहर का डिनर बहुत फोड़ू टाइप बनाया था | स्पेशली मिक्स-वेज | ठूंस-ठूंस के खाए |  मिठाई भी बहुत बढ़िया थी |
DSC01465
गप्प-गोष्ठी पार्ट-२ शुरू हुआ | बीच बीच में फोटो खीच के सोनल फेसबुक पर डालती रहीं | ऐसे ही टाइप की एक मीटिंग लास्ट इयर भी भई रही | हम पहले ही बोले थे सोनल को की किसी और को भी बुला लेना वरना लगेगा की लास्ट इयर की डाल दिहिन हैं फोटो | पर अनु जी ने ना आकर हमें बचा लिया | लेकिन परशांत बाबू यही कमेन्ट कर दिए  ( इंगेजमेंट के बाद इंसान काफी प्रेडिक्टेबल हो जाता है ) | उनसे भी निपटा गया |


सही बताएं तो भूल गए हैं की कौन कौन सी बात पर और कित्ता हँसे | पर हँसे बहुत | फिर ये हुआ की कॉफ़ी पी जाए | हमने कहा हम बना देते हैं | काफ़ी बनाई तो शर्त ये रखी गयी की पियेंगे तब , जब तुम ट्रे में सजा के लाओगे |  हम बहुत सीधे वाले बच्चे हैं , फटाफट मान गए | पर शिखा जी ने तुरंत फोटो खींच ली | और सोनल ने फेसबुक पर डाल दी |  जनता भी ना !!!!

DSC01478फोटो पर अनूप जी ने पहले तो कहा की पल्लू भी डाल लो हीरो बेटा , फिर अगले कमेन्ट में कह दिए की कोर्ट में जाकर केस कर दो, निजता का उल्लंघन हुआ है तुम्हारी |  बात तो गौर करने वाली है वैसे, देखते हैं किसी टाइम |
 
थोड़ी देर के लिए ब्लॉग के बारे में बात हुई | ज्यादातर ब्लोगरों को हम जानते ही नहीं थे तो इस हिस्से में हम सन्नाटे में रहे , सुनते रहे | पर ये चर्चा ज्यादा देर चल नहीं पायी | सब वापस औकात पर गए | सबकी बारी बारी से टांग खिचाई हुई |

शिखाजी ने अपनी नयी किताब “मन के प्रतिबिम्ब" हम लोगो को गिफ्ट की | अभी पढ़ नहीं पाए हैं , उसके बारे में फिर कभी  | आजकल “ट्यूसडेज विध मोरी” पढने में टाइम निकला जा रहा है | ये किताब पिछली मुलाकात में अनु जी ने सजेस्ट की थी | पहली बार कोई किताब पढ़ रहे हैं जो हर पन्ने पर अपना समय मांग रही है  | बहुत बढ़िया किताब है   |

शाम हो गयी थी तो अब वापस जाने का समय हो गया | सोनल ने अपनी ड्राइविंग कौशल का परिचर दिया , हम सब को सकुशल पंहुचा दिया | सबसे मिलना एक बार फिर बहुत बढ़िया लगा |

घर  आकार परधानमंत्री और सो-काल्ड भावी परधानमंत्री दोनों का भाषण सुने फिर से | सही बताएं तो दोनों बेकार लगे | एक ने कहा “हमने ये ये किया इसलिए अगली बार हमको वोट दो” | दूसरे ने कहा “देखो उन्होंने ये ये किया इसलिए अब हमको वोट दो” |

रात में अनूप जी का फ़ोन आया , उन्होंने कहा की पोस्ट लिखी जाए इस मीटिंग पर | हमने चिट्ठा चर्चा की डिमांड कर दी | उन्होंने कहा तुम लिखो पोस्ट, हम चर्चा शुरू कर देंगे | उन्होंने अपना वादा पूरा कर दिया पर हम पोस्ट ठेल नहीं पाए | वीकेंड भी भागा-दौड़ी में निकल भागा | अनूप जी ने फिर से चेताया की बेटा ये बड़े ब्लोगरों के लक्षण हैं जो कहने पर भी पोस्ट नहीं लिखते | अब इस आरोप से बचना बहुत ज़रूरी था तो बस ठेल दी ये पोस्ट, बाकी इसमे हमरी और कोनू गलती नहीं है |

फिलहाल आज़ादी के दिन की बिलेटेड शुभकामनायें !!!!

मनस्ते !!!!
-- देवांशु

13 comments:

  1. वैसे तुम्हारा कोई दिन बिना तोड़-फोड़ के निकल जाए ऐसा हो नहीं सकता... गप्प गोष्ठी शानदार रही होगी इसका यकीन है....

    ReplyDelete
  2. फिर से किताब गिफ्ट कर दी.. हद्द है.. एक हम हैं की उनकी किताब खरीद कर पढ़ते हैं.. :P

    ReplyDelete
    Replies
    1. अब कोई अपनी सगाई तक में न बुलाये तो उसे तो खरीदना ही पड़ेगा :)

      Delete
    2. ऐसे मित्र से क्या किताब मांगना PD जो परेशान (सगाई) के मौके पर भी साथ खड़े होने के लिये निमंत्रण की अपेक्षा करे? :)

      Delete
  3. Great description of a great day:)
    ***
    "आजकल “ट्यूसडेज विध मोरी” पढने में टाइम निकला जा रहा है |..... पहली बार कोई किताब पढ़ रहे हैं जो हर पन्ने पर अपना समय मांग रही है | बहुत बढ़िया किताब है |"
    Truly said!
    Reading "Tuesdays with Morrie" was very enriching and engrossing experience for me! I get back to the book often!
    Wish you happy reading:)

    ReplyDelete
  4. अच्छी रही गप्प गोष्ठी

    ReplyDelete
  5. मनस्ते :)अब गप्प गोष्ठी थी, शानदार न होती ऐसा तो हो ही नहीं सकता था. फिर हम थे भी सब माने हुए गपोड़ी :):).

    ReplyDelete
  6. मस्त रिपोर्टिंग की है साहब आपने :) :)

    ReplyDelete
  7. बढिया बयान किया हाल-ए-आजादी अच्छे से बयान किया।

    फ़ोटुओं के बारे में हम फ़िर से दोहराना चाहेंगे- आजकल मोबाइल कैमरों के क्वालिटी इतनी अच्छी हो गयी है कि सामने कोई भी हो लेकिन फ़ोटू खराब नहींआती।

    इस बात पर अगर S & S कंपनी एतराज करे तो उनको अपवाद में डाल के ये बात फ़िर से दोहराई जायेगी।

    बाकी तुमने अभी तक निजता के उल्लंघन का मुकदमा नहीं किया। किस बात का संकोच भाई? धमकी तो कम से कम। फ़िर बाद में माफ़ कर देना अगर दया आये।

    बाकी वायदे पर बड़ी देर में अमल किये लेकिन किये ये अच्छी बात है। मस्त। :)

    ReplyDelete
  8. जय हो, इन सबके लिये तो २४ घंटे कम पड़ जायेंगे, थोड़ा बढ़ा लें, हम अपना स्वतन्त्रता दिवस।

    ReplyDelete
  9. हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} के शुभारंभ पर आप को आमंत्रित किया जाता है। कृपया पधारें आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा |

    ReplyDelete
  10. आपके ब्लॉग को ब्लॉग संकलक ब्लॉग - चिठ्ठा में शामिल किया गया है। सादर …. आभार।।

    नई चिठ्ठी : "ब्लॉग-चिठ्ठा" की नई कोशिश : "हिंदी चिठ्ठाकार" और "तकनिकी कोना"।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    ReplyDelete