Wednesday, July 4, 2012

और हम पहुँच गए वतन!!!!

हाँ हाँ इसी सोमवार हम पहुँच गए अपने देश…अपने वतन.."ये जो देस है तेरा स्वदेस है तेरा" टाइप गाना गाते !!!

जब गए थे तब लपूझन्ना टाइप ब्लॉगर थे, हैं अभी भी लपूझन्ना , बस कांफिडेंस बढ़ गया है | तो तुरंतै सोचे की एक ठो पोस्ट चिपकाई जाये |  कंटेंट ढूँढने के लिए इधर उधर हाथ पाँव मारे | सोचा देश-भक्ति पर कुछ लिखा जाये | फिर सोचा ये लिखा जाये की हमारा देश कितना महान है | यहाँ और वहाँ की “सोसायटी" में क्या फरक है इसपे भी लिखने का सोचा | और तभी बत्ती गुल हो गयी | और हम भरी गर्मी में बिना पंखा, पसीने में नहाये “ये जो देस है मेरा स्वदेस है मेरा" गाते हुए कमर सीधी करने बिस्तर पर लुढ़क लिए | बत्ती महारानी लागातार आती जाती रहीं और हमें बल्ब के बार बार जलने और बुझने से आभास हो गया की अपने यहाँ अल्टरनेटिंग करंट (AC) आती है | अमरीका में तो लगता था कि केवल डायरेक्ट करंट (DC) आता है | नो चेंज एट आल |


हाँ तो जैसे पहुंचे !!!!


पंकज बाबू एकदम वेट कर रहे थे| जैसे ही हम कार से निकले बोले “मालिक!!! राजकपूर DSC00191लग रहे हो” | हमने कहा "अबे ऋतिक बोलो"| पर तबतक हमें बैकग्राउंड नहीं पता थी | हुआ यूँ कि जब हम चले वहाँ से तो हमारे परम मित्रों आशीष भाई और दीपक भाई ने हमारी  फोटो, जो उन्होंने एअरपोर्ट पर खीची थी, फेसबुक पर डाल दी और हम थे २४ घंटे आफ लाइन |  इसी बीच हमको फेसबुक पर राजकपूर बोल दिया गया | अब बगल में लगी फोटू देखिये | (इस फोटो में ये देखने कि कोशिश है टिकट तो ले लिया है पर जाना कहाँ है)


जैसे ही घर में घुसे पंकज मालिक ने माजा पिलाई और फिर बोले “मालिक!!! बड़े दिन हुए तुम्हारे हाथों कि चाय पिए हुए"| फिर हमने चाय बनाई | सुबह के साढ़े ५ बज रहे थे | (ये लाइन स्पेशली प्रशांत बाबू के लिए है)| चाय के साथ साथ गिटार बजाया गया | ६ बज गया | पंकज बाबू फिर बोले "मालिक!!! सुबह सुबह दौड़ना अच्छी बात है"| सामान खोला, जूते निकाले और चल दिए मैदान पर ४ चक्कर में सांस फूल गयी | पंकज मालिक ६ चक्कर लगा लिए | फिर घर आये तो भूख लग आयी | मैगी बनाई, खाए | 


फिर हमने छेड़ दिया "मालिक!!! आजकल लिख नहीं रहे, क्या बात है" | मालिक तो एकदम सेंटी हो गए "क्या बताएं मालिक, काम बहुत है, टाइम है नहीं" | और इसी टाइप के १५-२० रेडीमेड बहाने उन्होंने चिपका दिए | असली कहानी हमें कुछ औरे लग रही है | खुलासा जल्दी होगा |



ये घर पुरातत्व विभाग को दिया जा सकता है !!!!


और जैसे ही सोने जाने का प्रोग्राम हुआ हमें हमारी साल भर पुरानी टूटी चप्पलें दिख गयी | जो अपनी जगह पे पिछले करीब १० महीने से वैसी पड़ी थी | पंकज मालिक का कहना है कि "वो तो कुछ दिन पहले सोफा हिलाया था तो दिख भी गयी वर्ना ये तो अंदर थी"| तुरंत घर का जायजा लिया गया | कई मसाले के डिब्बे, पुराना गैस सिलेंडर का रेगुलेटर, फ्यूज बल्ब (हाँ वही फ्यूज बलब जिसके बारे में पहले भी बताये थे), पुराने डियो की बोतलें, शैम्पू की बोतलें जिनका दम निकाला जा चूका था , ९-१० महीने से वैसी की वैसी पड़ी थी | हमने मालिक की तरफ देखा| वो बोले "ये रवि भी न, रोबोट की ज़िंदगी जीता था"| हम तो निरुत्तर हो गए | 

DSC00210DSC00212
खोयी हुई चीज़ों का मिलना बदस्तूर जारी है | और जिस गति से चीज़ें मिल रही हैं उससे पंकज बाबू को उम्मीद जगी है कि उनका ८ महीने पहले खोया मोबाइल भी मिल जायेगा जो उन्होंने घर में “कहीं” रखा था |  Smile Smile Smile


फिर काफी देर इधर उधर की बातें हुई | एक-एक कप चाय और गटक गए | फिर हम तो निकल लिए सोने , पंकज बाबू चल दिए ऑफिस |


अगले दिन सुबह फिर देर से उठे !!!

रात में काफी देर बैठ के दुनिया जहाँ की बातें हुई | हम जानने कि कोशिश करते रहे कि पंकज बाबू क्यूँ नहीं लिख रहे हैं | पर उन्होंने नहीं बताया | गाने सुने गए | एक दूसरे की टांग खींची | और जल्दी-जल्दी रात में १२-१ बजे तक सो गए | अगले दिन उठे ८ बजे, कोई नहीं गया दौड़ने आज |


 एक नाईट आउट भी हो गया !!!

अभी थोड़ी देर पहले बढ़िया हवा चल रही थी, बारिश जैसा माहौल बना हुआ था, कुत्ते भी भौंक रहे थे | हम दोनों चल दिए अपने पुराने ऑफिस के पास, चाय पीने | जैसे हमारे घर में कुछ नहीं बदला था वैसे ही ये ऑफिस के पास वाली दुकाने भी नहीं बदली थी | वैसे की वैसी और रात में २ बजे भी बदस्तूर चालू हालत में | चाय पी | पुराने ऑफिस में जाकर बाहर फोटो सेशन भी हो गया | बाद में गार्ड ने बताया फोटो लेना "अलाउड" नहीं है |

करीब ३ बजे घर पहुंचे तो पुरातत्व में रूह-आफज़ा की बोतल भी मिल गयी | अभी एक्सपायर नहीं हुई थी, ज़िंदा थी | रूह-अफज़ा के "पेग" बने | टाइमर लगा के यहाँ भी फोटो सेशन हुआ | कुछ फोटो फेसबुक पर हैं | एक जो हमें बेहतरीन लगी वो नीचे है :
DSCN0563-1
इस फोटो में बाईं तरफ पंकज उपाध्याय हैं जिनकी कुछ दाढ़ी पिछली बार बनाते हुए छूट गयी है  | दायीं तरफ जो स्मार्ट और हैंडसम सा इंसान है, वो हम हैं | दोनों तरफ एक एक गिटार भी दिख रहे हैं जो शो-ऑफ के लिए रखे गए हैं|


कुल मिलाकर स्टार्टिंग के २ दिन बड़े धाँसू बीते हैं | अब आगे २-३ हाई-प्रायोरिटी काम पड़े हुए हैं | उन्हें निपटाया जाये | फिर कहानी आगे बढ़ेगी |


बाकी तो ये पब्लिक है सब जानती है !!!!


(रूम की जिस दुर्गति का जिक्र ऊपर किया गया है, उसे करने में हमारा भी विशेष सहयोग रहा था, बस उसको मेंटेन रखने का काम पंकज और रवि बाबू ने बड़ी मेहनत से किया है, पीडी कब आ रहे हो फिर तुम ) Smile Smile Smile

नमस्ते!!!
--देवांशु

15 comments:

  1. खोयी हुई चीज़ों का मिलना बदस्तूर जारी है|-
    कोई पुरातात्विक खोया हुआ प्यार भी न मिल जाय अगर इसी गति से खोये हुए सामान मिलते रहे ....
    अब चूंकि जवानी खोयी नहीं बरकरार है नहीं तो ऐसे में वो भी कहीं दुबकी सिमटी मिल ही जाती ..
    स्वागत है अजायबघर में !

    ReplyDelete
  2. मालिक आप ग्रेट हो!!!सुबह सुबह क्या जबरदस्त पोस्ट लिख डाली...मज़ा आ गया!!शुक्रिया मालिक :)
    वैसे फोटू में सच में राजकपूर लग रहे हो :)

    ReplyDelete
  3. आ गए हैं तो क्या हम आरती उतारें....?

    ...वैसे फेसबुक से जानकारी मिलि थी पर एकदम पक्का और पुख्ता तभी होता है जब ब्लॉग को इस सबमें शामिल कर लिया जाता है.

    फोटो में हल्की दाढ़ी वाला ही हैंडसम है,दूसरा तो नेचुरल-लुक में है.

    ...स्वागत फिर से अपने देश में !

    ReplyDelete
  4. धांसू पोस्ट है भाई. चकाचक.
    अब लिखने में कुछ रफ़्तार लाई जाए.

    ReplyDelete
  5. अगले हफ्ते हम भी आ रहे हैं!

    ReplyDelete
  6. अच्छा, ऐसा देश है मेरा... और ऐसे हैं यहाँ के नामचीन ब्लॉगर लोग... वैसे कोई न कोई कपूर तो लग ही रहे हो... अब राज कपूर या फिर शक्ति कपूर पता नहीं.. तस्वीर में नाड़ा नहीं दिख पाने की वजह से ये कन्फ्यूजन है... और कभी दूध का भी पेग बना के उपलोड करना... हम जैसे लोगों को अच्छा लगेगा... और तुम बच्चों के आदर्श ब्लॉगर बन जाओगे..
    और पंकज बाबु से तो उगलवा ही लेना की किधर बीजी हैं बाबाजी आज कल.. और उनको बोलो माशाल्लाह delhi में काफी वेराईटी किसिम के बार्बर लोग हैं... उनकी मदद लें और अपना ये छूटा-बढ़ा जंगल हटवाकर अपनी ठुड्डी का भी दर्शन कराएं सब लोगों को... बाकी देश में तुम्हारा स्वागत है, यहाँ कोई सा भी करेंट आता हो.... फील ज़रूर आता रहता है बिजली का... :-) अरे बाप रे कितना बड़का कमेन्ट लिख दिए हम भी .... साला फ़ालतू बैठे थे भोरे भोरे तुम्हारा पोस्ट दिख गया, सब भड़ास यहीं निकल गया... बाकी सब ब्लोग्स पर अब क्या कमेन्ट करेंगे.. ख़ाक....

    ReplyDelete
  7. दोस्ती यारियाँ चलती रहे...
    शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  8. आपके अपने देश में आपका स्वागत है ।


    सादर

    ReplyDelete
  9. स्वदेश पहुँच कर सही मालिकाना पोस्ट लिख दी है.अब दुसरे मालिक क्यों नही लिख रहे इसका खुलासा जल्दी किया जाये पहले मालिक :)
    हाँ फोटो में राजकपूर ही तो हैं:) .

    ReplyDelete
  10. बढ़िया पोस्ट ...ऐसे ही खोजते रहिये अभी पता नहीं क्या क्या मिलेगा

    ReplyDelete
  11. ये मालिक लोग कभी-कभी बड़ी मजेदार बातें कर जाते हैं। :)

    ReplyDelete
  12. जल्द आ रहे हैं मालिक.. जब तीन-तीन मालिक साथ होंगे तो दुनिया से गोर-हाथ दबवायेंगे. ;-)

    ReplyDelete
  13. शायद ज्यादा समय ना दे सकूं, मगर जल्द आने की नौबत लग रही है!!

    ReplyDelete
  14. बड़ा मालिकाना सा माहौल बनाया है मालिक :)
    मालिक को बोलो कुछ लिखें. दाढ़ी भी ढंग से नहीं बनाते ! 'और' बात जो है उसको ब्रेक किया जाय ब्लॉग पर :)

    ReplyDelete