Monday, December 30, 2013

फितूर !!!


आज बड़े दिनों बाद कुछ लिखने बैठा हूँ | ऐसा नहीं है की लिखना कोई हमेशा की आदत रही है या हुनरमंद हूँ लिखने में | बस मन करता था तो की बोर्ड पर खिटिर पिटिर कर डालता था | मन के फितूर को लफ़्ज़ों का जामा पहना देता और खुश हो लेता की वाह भाई जी क्या लिख डाला |

और ऐसा भी नहीं की लिखने की आदत कोई नयी थी | शायद नौवीं में था जब पहली बार कुछ लिखा था अपनी डायरी में | तब से बात बे बात, खयाल उस डायरी के सुपुर्द करता गया | आज जहाँ भी जाता हूँ वो डायरी हमेशा साथ रहती है | 

जब भी उसे पढता हूँ तो पाता हूँ की तभी कुछ लिखा जब उदास हुआ | मानो डायरी न हुई मेरा पंचिंग बैग हुआ | जैसे “आज आई आई टी के प्री में एक बार फिर फेल हो गया” , “आज रिजल्ट आया एक नंबर से सेकंड आ गया” या “पेपर में बैक आ गयी , कॉलेज में टॉपर हूँ फिर भी , अब ओनर्स नहीं मिलेगी" | ऐसा ही हमेशा कुछ | कुछ कतरे इश्क के भी हैं, पर खासे पर्सनल तो यहाँ लिखे नहीं जा सकते, पर हैं उदासी के ही | एक भी ख़ुशी के लम्हे को वहां से निकालना मुश्किल है | मानों ज़िन्दगी में ख़ुशी देखी ही ना हो | पर ऐसा है तो नहीं |

फिर इस ब्लॉग पर खुद के लिखे को पढ़ता हूँ, ये पिछले कई दिनों से कर रहा हूँ जो की एक कवायद है खुद को वापस पाने की | तो पाता हूँ की सिवाय खुराफात और ज़हर के शायद ही कुछ लिखा है | तो क्या ये एक मुखौटा भर है मेरा या एक चादर जो खुद को उढ़ा दी है | दुनिया को दिखाने के लिए | क्यूंकि आदत तो हमेशा दुःख देखने की है , ख़ुशी की बात अपने मुंह से अच्छी नहीं लगती खुद को ही |

मुझे लगता है जिन्दगी के कई हिस्से होते हैं , और उनमे से कई एक ही वक़्त पर पैरेलल चल रहे होते हैं | ये आप पर है किसे आप ऊपर रखते हैं | हम सब की जिंदगी इन हिस्सों के पाटों के बीच कहीं फंसी होती है | अगर हम इनके साथ घुमते हैं , जिन्हें कभी कभी समझौता भी कहते हैं , तो अपनी जिंदगी को चलता हुआ पाते हैं , और जो रुक के खड़े होते हैं तो इन पाटों के ही बीच फंस जाते हैं , पिस जाते हैं | अक्सर हम इसका दोष दूसरों पर मढ़ देते हैं और संतोष कर लेते हैं | पर ये सच्चाई नहीं | ये हमारी खुद की ज़िंदगी होती है जो वक़्त के साथ, हमें लाही के दानों की तरह पीसती रहती है | पर अपने को दोष कौन दे ?

पिछले कुछ वक़्त में ऐसा ही कुछ बीतता रहा ज़िंदगी में , ये शायद जिद थी मेरी या मेरा अहंकार की मैं झुकने को तैयार नहीं था | हिस्सों की अपनी रफ़्तार थी | जिन्दगी पिसती गयी | पर खुद को खुद पर भी दया नहीं आयी | जहाँ था वहां अड़ के खड़ा हो गया | भूल गया की “झुकते वो हैं जिनमे जान होती है अकड़पन  तो सिर्फ मुर्दे की पहचान होती है” | खुद को एक ज़िंदा लाश की तरह पाने लगा  इसीलिए |  

फिर अमेरिका आने की सोची , शायद ये एक समझौता ही था | खुद की आँखें बंद करके खुद को छुपा हुआ समझने की कोशिश | पर इसमे भी नाकाम रहा | खुद को एक कमरे में बंद कर लिया है बस | यहाँ मैं हूँ | मेरी तन्हाई को बांटने के लिए दो लैपटॉप जिनमे से एक मेरे ऑफिस का जो २४ घंटे चलता है | एक गिटार है जिससे कोई धुन अब नहीं निकलती | एक कॉफ़ी मग है और कुछ पुरानी यादों के धुंए का साथ  |  एक फोन है जो कभी कभी ही बजता है | बस और कुछ नहीं | 

और इसी सब के बीच याद आया की मैं तो लिख भी लेता हूँ | तो बस ये सब लिख डाला | ऐसी कोई ख़ास अहमियत भी नहीं है अपनी की लोग पूछेंगे की भाई जी आजकल क्यूँ नहीं लिख रहे या कहाँ गायब हो गए |  दुःख लिखना अखरेगा यहाँ और फिर वैसा बनने में ना जाने कितना वक़्त लगे |  

तब तक के लिए : अगड़म बगड़म,  स्वाहा !!!!

( ये सब मन का फितूर है , इग्नोर कर दीजियेगा किसी को दुखी करने का कोई इरादा नहीं है |  आप सभी को आने वाले २०१४  और आगे के सभी सालों की ढेरों शुभकामनायें  )

6 comments:

  1. नहीं , जहर ही लिखा हो ऐसी बात नहीं है।कई बार सार्वजनिक स्थानों पर आपकी पोस्ट पढ़कर खिखियाते लोग, पागल समझ कर पकडे गए हैं और ये आम बात नहीं है :D . so लिखते रहो, बजाते रहो और मस्त रहो। जिन्दगी और प्रेम का क्या है सब आनी जानी माया है। साथ तो यह ब्लॉग ही देगा :p

    ReplyDelete
  2. क्या बात है! घणे सीरियस हो गये।

    अब हो गये तो हो गये। नया साल मुबारक हो!

    ReplyDelete
  3. बताओ बक्सा खुलवा दिया, कमेन्ट करने की नहीं आया अभी तक... अमेरिका जाके बहुत फितूर आ गए हैं.... मस्त रहो लड़के...

    ReplyDelete
  4. चिल्लाये तो सब पडे थे मगर जब कमेण्ट का बक्सा खुला तो एकौ आलसी कमेण्ट करने ना आया... हम ही तुम्हारी लाज रख लेते हैं बालक :P

    खराब बातों से भरी अच्छी पोस्ट ज़रा भी पसंद नहीं आयी :/

    ReplyDelete
    Replies
    1. सबको यही गलतफहमी हो गयी कि उनका ही कमेन्ट पहला है.... :P

      Delete
  5. ख़ुद से ,खुद की बातें एक अलग ही रौ में ले गयी पर एक ईमानादारी भरी अभिव्यक्ति अच्छी भी बहुत लगी .....

    ReplyDelete